Tag Archives: Implantation bleeding

भ्रूड़ के प्रत्यारोपण के बाद होने वाला रक्तस्राव ( इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग )

Implantation Bleeding

इस अनुच्छेद ,में , जानेंगे –

प्रत्यारोपण रक्तस्राव: परिचय ।

      प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के कारण ।

प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के लक्षण ।

       प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के उपचार ।

प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के परिचय ।

भ्रूड़ फॉलोपियन ट्यूब से निचे जाता है, और गर्भाशय की दीवार से जुड़ता है जिसके परिणामस्वरूप योनि से खून बहता है जो बहुत कम और हल्का रंग का होता है । जिसे इम्प्लांटेशन रक्तस्राव कहा जाता है । महिलाये अक्सर इसे माहवारी समझ कर भूल करती है । क्योंकि यह माहवारी की उनकी नियत तारिख के आस पास होती है लेकिन प्रत्यारोपण रक्तस्राव और उसकी माहवारी में अंतर है । खून का रंग रक्तस्राव में प्रत्यारोपण के दौरान नियमित रूप से माहवारी के रक्तस्राव से भिन्न होता है, यह हलके गुलाबी रंग से गहरे भूरे रंग तक हो सकता है । यह केवल 48 घंटे तक ही रहता है 5 से 7 दिनों के लिए नहीं रहता है । आम तौर पर इसे किसी भी चिकित्सीय ध्यान की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन अगर यह लंबे समय तक रहता है, तो अपने चिकित्सीय सलाहकार से संपर्क करें ।

प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के कारण ।

जैसा कि ऊपर वर्णित है की प्रत्यारोपण रक्तस्राव गर्भशय की परत से भ्रूड़ के जुड़ने का नतीजा है । भ्रूड़ जब गर्भाशय से जुड़ता है और अपने विकास को आगे बढ़ाता है तब गर्भाशय की दीवार से जुड़ने के समय गर्भाशय की दीवार से जुड़ने के समय गर्भाशय की दीवार से कुछ कोशिकाएं टूट के अलग हो जाती हैं जिसके परिणामस्वरूप योनि से रक्त स्त्राव होता है ।

प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के लक्षण ।

गर्भधारण के शुरुआती संकेत के रूप में आप इसे समझ सकती है । यहाँ निचे लक्षण सूचीबध्य हैं जो महिला को प्रत्यारोपण रक्तस्राव समझने में मदद करते हैं :

  1. प्रत्यारोपण रक्तस्राव – यह रक्त स्त्राव आपकी माहवारी की नियत तारीख से कुछ दिन पहले होगा और सिर्फ ४८ घंटे तक ही होगा ।
  2. रंग में परिवर्तन – रक्त हल्का गुलाबी रंग का होगा ।
  3. रक्तस्राव की अवधि – यह केवल ४८ घंटे तक होगी, यदि यह इससे ज्यादा लंबे समय तक हो तो आप अपने चिकित्सक को हैलो कहने के लिए खुद को तैयार करले ।
  4. मूड स्विंग्स – आप अपने स्वाभाव में परिवर्तन महसूस करेंगे ।
  5. आप थका हुआ महसूस करेंगे ।
  6. चक्कर आना – प्रत्यारोपण रक्तस्राव आपको चक्कर आने की स्तिथि में ला सकता है ।
  7. सिरदर्द – यह प्रत्यारोपण रक्तस्राव का यह एक बहुत सामान्य लक्षण है और अक्सर अन्य कारकों के साथ गलत समझा जाता है ।
  8. स्तन के आकार में वृद्धि ।
  9. मतली और उलटी ।
  10. यह कब्ज पैदा कर सकता है ।
  11. आपकी सूंघने की शक्ति में इजाफा हो जायेगा ।
  12. आपके शरीर के तापमान में वृद्धि हो जाएगी ।

प्रत्यारोपण रक्तस्राव: के उपचार ।

प्रत्यारोपण रक्तस्राव पूरी तरह से सामान्य है । गर्भावस्था के समय महिलाओं में 50 % महिलाओ को यह होता है । यह गर्भधारण के 6 से 12 दिन बाद हो सकता है । इसमें किसी भी प्रकार के उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, परन्तु तभी तक, जब तक कुछ जटिलता नहीं होती है । यदि आपको 48 घंटे से अधिक समय तक रक्तस्राव हो तो अपने चिकित्सीय सलाहकार से संपर्क करें । प्रत्यारोपण रक्तस्राव में चिकित्सक यह सलाह देते है की टैम्पोन का इस्तेमाल न करें, इससे आपके शरीर को नुकसान हो सकता है ।
यह आलेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है, यह कोई चिकित्सा सलाह या सहायता प्रदान नहीं करता है ।

All that you want to know about implantation bleeding

Garbh Sanskar

In this article, you will learn about-

Implantation bleeding: an Introduction.

Implantation bleeding: causes.

Implantation bleeding: symptoms.

Implantation bleeding: Treatment.

Implantation bleeding: an Introduction

The fertilized egg travels down and attached to the wall of the uterus which results in mild bleeding this is called as implantation bleeding. Women often misunderstood it with the period as it likely occurs around their due date of the period but there is the difference in implantation bleeding and your monthly period. In the implantation bleeding the color of blood varies from the regular period bleeding it could be light pink to dark brown in shade and it last for only 48 hours not for 5 to 7 days. Normally it does not require any medical attention but if it last for long, do contact your medical adviser.

Implantation bleeding: causes.

As stated above the implantation bleeding is the result of fertilized egg attached to the lining of uterine. The cell mass makes its way to further development and attaches to the wall which results in shielding of the wall a little and causes light pigmented bleeding.

Implantation bleeding: symptoms.

One can take implantation as an early sign of pregnancy. There are signs and symptoms listed down there which help a woman to understand the implantation bleeding:

  1. Early bleeding – you will bleed earlier to the due date of your period.
  2. Change in color – the color would be of light pink.
  3. Duration of bleeding – it will up to 48 hours only if it last longer. Prepare yourself to say hello to your doctor then.
  4. Mood swings – you will start noticing that there are random changes in your mindset or mood.
  5. You will feel tired – your body will feel low and demand rest.
  6. Dizziness – implantation bleeding can bring you to the state of dizziness.
  7. A headache – that is a very common symptom of implantation bleeding and often misunderstood with other factors.
  8. Increase in the size of breast – you will notice tenderness and swollen breast.
  9. Nausea- pregnancy hits the certain hormones secretions in the body like estrogen which causes. Sometimes it is followed by vomiting.
  10. It may cause constipation.
  11. It will give you feel of supernatural with increased sense of smell
  12. You will a raise in body temperature.

Implantation bleeding: Treatment.

Implantation bleeding is completely normal. 50% of women have it at the time of pregnancy. If Occur after 6 to 12 day of pregnancy. It doesn’t require any type of treatment unless some complication happens. If you observe bleeding for more than 48 hours does visit your doctor. For implantation bleeding doctor recommended not to use tampons, it may cause harm to your body.

This article is for educational purpose only; it doesn’t provide any medical advice or assistance.